कैप्टन अमरिंदर सिंह का फौजी अंदाज:कपूरथला हाउस में तैनात CRPF जवानों को किया सैल्यूट; हाथ मिलाकर बोले

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Amarinder’s Military Style Salutes CRPF Jawans Posted At Kapurthala House; Shaking Hands Said Thank You For The Protection

जालंधरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
कपूरथला हाउस में CRPF जवानों से हाथ मिलाकर शुक्रिया कहते कैप्टन अमरिंदर सिंह। - Dainik Bhaskar

कपूरथला हाउस में CRPF जवानों से हाथ मिलाकर शुक्रिया कहते कैप्टन अमरिंदर सिंह।

फौज से रिटायर्ड कैप्टन अमरिंदर सिंह का सेना के प्रति प्रेम हर वक्त नजर आता है। पंजाब में उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी। 3 दिन पहले ही वह दिल्ली गए थे। वहां वे पंजाब CM के अधिकारिक आवास कपूरथला हाउस भी पहुंचे। यहां उन्होंने सिक्योरिटी में तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (CRPF) के जवानों से भी मुलाकात की। अमरिंदर सिंह ने उनकी सुरक्षा में निभाई भूमिका के लिए उन्हें शुक्रिया कहा। जवानों से हाथ मिलाया, सैल्यूट किया। साथ में वह उन्हें अगले सीएम चरणजीत चन्नी की पूरी सुरक्षा करने के लिए कह आए।

अमरिंदर सिंह ने कैप्टन के तौर पर 1963 में सेना जॉइन की थी। 1965 में पाकिस्तान के साथ जंग के बाद उन्होंने सेना छोड़ दी। कैप्टन ने पूर्व पीएम राजीव गांधी के साथ सनावर स्कूल में पढ़ाई की थी। 1980 में राजीव के कहने पर ही कैप्टन ने चुनाव लड़ा। हालांकि पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के वक्त अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर में हुए ऑपरेशन ब्लू स्टार के चलते उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी थी।

CRPF जवानों को सैल्यूट करते कैप्टन अमरिंदर सिंह।

CRPF जवानों को सैल्यूट करते कैप्टन अमरिंदर सिंह।

पहले बैचमेट्स को पार्टी देकर गुनगुनाए थे गीत

कैप्टन अमरिंदर सिंह को CM की कुर्सी से हटाने के बाद पंजाब कांग्रेस में उठापटक मची हुई है। इससे दूर अमरिंदर ने कुछ दिन पहले ही मोहिंदर बाग फॉर्म हाउस में NDA बैचमेट्स को पार्टी दी, जिसमें उनके 47 बैचमेट्स शामिल हुए। तब उन्होंने माइक थाम गीत गुनगुनाकर पुरानी यादों को ताजा किया था।

NDA बैचमेट्स को दी पार्टी में गीत गुनगुनाते कैप्टन अमरिंदर सिंह।

NDA बैचमेट्स को दी पार्टी में गीत गुनगुनाते कैप्टन अमरिंदर सिंह।

सियासी तौर पर भी अमरिंदर का दिल्ली दौरा अहम

सियासी नजरिए से अमरिंदर सिंह का दिल्ली दौरा काफी अहम रहा। उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल से मुलाकात की। फिर कांग्रेस में न रहने का ऐलान कर दिया। अमरिंदर ने यह भी कहा कि वह भाजपा में भी नहीं जाएंगे। अब यह तय माना जा रहा है कि वे नया संगठन बनाएंगे या ऑल इंडिया जाट महासभा को फिर सक्रिय करेंगे। इसके जरिए संयुक्त किसान मोर्चे (SKM) की सहमति से केंद्र सरकार के साथ बातचीत करके किसान आंदोलन का हल निकालेंगे। इसके बाद वह पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 में अपना दबदबा दिखाएंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *