पंजाब में परमानेंट DGP की नियुक्ति में देरी:UPSC ने पैनल को लेकर गृह विभाग से मांगा स्पष्टीकरण; नाम और जॉइनिंग डेट में क्लेरिकल मिस्टेक मिली

  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Delay In Appointment Of DGP In Punjab, UPSC Seeks Clarification From Home Department Regarding Panel; Name And Joining Date Found Error

चंडीगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
नवजोत सिद्धू पंजाब में इकबालप्रीत सहोता को डीजीपी लगाने का विरोध कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar

नवजोत सिद्धू पंजाब में इकबालप्रीत सहोता को डीजीपी लगाने का विरोध कर रहे हैं।

पंजाब में पक्के तौर पर DGP की नियुक्ति में देरी हो सकती है। पंजाब सरकार द्वारा UPSC को भेजे पैनल में कुछ क्लेरिकल मिस्टेक सामने आई हैं। जिस वजह से पंजाब के गृह विभाग से इस पर स्पष्टीकरण मांगा गया है। इसके बाद ही UPSC 3 अफसरों का पैनल बनाकर पंजाब को भेजेगी। जिनमें से किसी एक अफसर को डीजीपी लगाया जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक UPSC को भेजी लिस्ट में डीजीपी वीके भवरा के नाम को लेकर पूछा गया है। पैनल में एक जगह उनका नाम शॉर्ट में लिखा है जबकि दूसरी जगह पूरा नाम है। गृह विभाग से पूछा गया है कि यह एक ही अफसर के अलग-अलग नाम हैं या दोनों अलग-अलग अफसर हैं। इसी तरह हाल ही में डीजीपी पद से हटाए दिनकर गुप्ता की जॉइनिंग की तारीख में भी कुछ गड़बड़ी है। जिस वजह से करीब एक महीना बीतने के बाद भी पैन बनकर नहीं आया है।

अभी सहोता कार्यकारी डीजीपी

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह को CM पद से हटाने के बाद दिनकर गुप्ता छुट्‌टी पर चले गए थे। बाद में नए सीएम चरणजीत चन्नी ने उनकी जगह इकबालप्रीत सहोता को डीजीपी का चार्ज दे दिया। फिलहाल सहोता कार्यकारी डीजीपी के तौर पर काम कर रहे हैं। चुनाव की घोषणा में करीब 2 महीने का वक्त बचा है। ऐसे में पैनल में देरी से कई बड़े दावेदार कुर्सी से वंचित हो सकते हैं।

सिद्धू को दिया था यही फार्मूला

दिलचस्प बात यह है कि नवजोत सिद्धू ने जब इकबालप्रीत सहोता को डीजीपी लगाने का विरोध किया तो उन्हें यही फार्मूला दिया गया। सिद्धू को कहा गया कि UPSC को पैनल भेजा है। वहां से सूची आने के बाद उनके साथ चर्चा कर नया डीजीपी लगा देंगे। हालांकि अब वहां से ही देरी होने पर सहोता पद पर बने रहेंगे। सिद्धू सिद्धार्थ चट्‌टोपाध्याय को डीजीपी लगाना चाहते थे। सिद्धू का तर्क था कि डीजीपी सहोता ने बेअदबी केस में बादल सरकार को क्लीन चिट दी थी। हालांकि उनके इस विरोध को CM चन्नी ने दरकिनार कर दिया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *