पटाखों के बाद दिल्ली-NCR में बढ़ा प्रदूषण:दिवाली पर जमकर हुई आतिशबाजी ने हवा में घोला जहर, लोगों को सांस लेने में तकलीफ

नई दिल्ली4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दिवाली पर पटाखे न फोड़ने को लेकर लगे प्रतिबंध के बाद भी पूरे देश में आतिशबाजी हुई। लोगों ने दिल भरकर पटाखे चलाए, कुछ अपनी खुशी के लिए तो कुछ नियमों का मजाक उड़ाने के लिए। लेकिन सुबह होते ही पटाखों का असर साफ दिखने लगा। दिल्ली-एनसीआर का प्रदूषण स्तर खतरनाक के पार चला गया है। लोगों को गले में जलन और आंखों से पानी आ रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक, रविवार तक हालात में बदलाव आने की कोई संभावना नहीं है।

शुक्रवार सुबह दिल्ली के जनपथ में हवा की गुणवत्ता खतरनाक स्तर पर मापी गई। PM 2.5 का स्तर 655.07 तक पहुंच गया। सरकारी मानकों के मुताबिक, पीएम 2.5 का स्तर 380 के ऊपर जाना ही गंभीर माना जाता है। दिल्ली सरकार ने पटाखों की ब्रिकी और उन्हें जलाने पर पाबंदी लगाई थी, लेकिन लोगों ने नियमों को ताक पर रखकर सड़कों पर पटाखे फोड़े।

दिल्ली में कल से ही खराब थी हवा

दिल्ली में दिवाली की रात से पटाखे फूटने और आतिशबाजी से पहले ही वायु प्रदूषण का असर दिखना शुरू हो गया था। गुरुवार सुबह से ही आसमान में धुंध छाई हुई थी। दिल्ली में हवा का स्तर खराब होकर 363 AQI पर पहुंच गया था। मौसम और प्रदूषण का हाल बताने वाली संस्था सफर ने बताया था कि 2019 के मुकाबले इस बार दिल्ली के लोगों ने आधी मात्रा में भी आतिशबाजी की तो राजधानी में वायु प्रदूषण से हालात खराब होना तय है।

पराली का प्रदूषण 38% असर दिखा सकता है

पराली का धुआं भी परेशानी का सबब बनता जा रहा है। 6 नवंबर तक इसके और बढ़ने की आशंका है। सफर ने पहले ही अनुमान लगाया गया था कि 4 से 6 नवंबर तक दिवाली के पटाखों के प्रदूषण के अलावा पराली का प्रदूषण भी 20 से 38 प्रतिशत तक असर दिखा सकता है।

पॉल्यूशन से होने वाली आम बीमारियां

  • सांस लेने में तकलीफ
  • आंख और नाक में जलन होना
  • बालों का झड़ना
  • चक्कर आना, सिरदर्द और घबराहट
  • त्वचा पर दाने और खुजली
  • लंग्स, हार्ट और नर्वस सिस्टम पर भी बुरा प्रभाव

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *