मुंबई में फिर से स्कूल खोलने की मांग:पेरेंट्स ने कहा

मुंबई4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना की विभीषिका झेलने के बाद फिर अपने पैरों पर खड़ी हो रही मुंबई में स्कूलों को पूरी तरह से खोलने की मांग तेज होती जा रही है। फिलहाल महाराष्ट्र के शिक्षा विभाग ने सिर्फ 8वीं से 12वीं तक के स्कूल खोलने का आदेश जारी किया है, लेकिन दिवाली और दशहरे की लंबी छुट्टी के बाद भी स्टूडेंट्स अभी स्कूल नहीं जा रहे हैं। मुंबई में ऐसे कई पेरेंट्स एसोसिएशन हैं, जो 22 नवंबर से पूरी तरह स्कूलों को शुरू करने की मांग पुरजोर तरीके से कर रहे हैं।

बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ रहा असर

यह मांग करने वालों में से एक है #OPENMUMBAISCHOOLSNOW ग्रुप। सोशल मीडिया पर बने इस ग्रुप से अब तक 1200 से ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं। इन्होंने सोमवार से स्कूलों को फिर शुरू करने की मांग करते हुए CM उद्धव ठाकरे के नाम पर एक ओपन लेटर लिखा है।

इस समूह के वॉट्सऐप ग्रुप की एडमिन गायत्री खन्ना ने बताया कि पिछले दो साल से स्कूल लगभग पूरी तरह से बंद हैं। इसका सीधा असर बच्चों की पढ़ाई और उनकी मेंटल हेल्थ पर पड़ रहा है। बच्चों के लिए मौजूदा स्थिति कोविड से ज्यादा गंभीर बनती जा रही है।

सोशल मीडिया में बने इस ग्रुप पर लोग लगातार जुड़ रहे हैं।

सोशल मीडिया में बने इस ग्रुप पर लोग लगातार जुड़ रहे हैं।

बच्चे पार्टियों में जा रहे, फिर स्कूल क्यों नहीं जा सकते

गायत्री ने बताया कि पूरी मुंबई फिर से पटरी पर लौट चुकी है। सभी कुछ शुरू हो चुका है, इसके बावजूद स्कूलों को पूरी तरह से नहीं खोला जा रहा। उन्होंने सवाल किया कि बच्चे जब पार्टियों, शादियों या सोशल इवेंट्स में जा सकते हैं तो फिर स्कूल में क्यों नहीं जा सकते? रिपोर्ट्स भी यह कहती हैं कि छोटे बच्चों में कोरोना वायरस से लड़ने की क्षमता ज्यादा है, इसलिए संक्रमित होने के बावजूद वे जल्दी रिकवर हो सकते हैं। इसलिए स्कूलों को फिर से शुरू करना ही चाहिए।

पेरेंट्स तैयार, लेकिन सरकार नहीं दे रही मंजूरी

गायत्री ने आगे बताया कि हर स्कूल ने कोविड से निपटने के लिए एक SOP (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर) बनाई है और उनके यहां एक पेरेंट्स बॉडी है, जो यह तय करती है कि स्कूलों में कोविड नियमों का पालन कैसे करना है। हम सभी तैयार हैं, लेकिन सरकार स्कूल खोलने की मंजूरी नहीं दे रही है।

CM को भेजे ओपन लेटर पर 1500 से ज्यादा लोगों ने सिग्नेचर किए हैं।

CM को भेजे ओपन लेटर पर 1500 से ज्यादा लोगों ने सिग्नेचर किए हैं।

कोविड को ध्यान में रखा, तो स्कूल कभी खुलेंगे ही नहीं

पेरेंट्स का कहना है कि किसी एक टीचर या बच्चे के संक्रमित होने पर पूरे स्कूल को बंद कर देना ठीक नहीं है। हमें इसी कोविड के साथ जीना है और अगर ऐसे ही चलता रहा तो स्कूल कभी खुल ही नहीं सकेंगे। उन्होंने CM उद्धव ठाकरे को लिखे लेटर में कहा है कि आपको यह अभिभावकों और स्कूल पर ही छोड़ देना चाहिए। हमारे बच्चे ऑनलाइन मीडियम से बिल्कुल भी पढ़ाई नहीं करना चाहते हैं। जो अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते, वे ऑनलाइन एजुकेशन को अपना सकते हैं। पिछले दो साल के दौरान बच्चों की पढ़ाई बहुत प्रभावित हुई है।

पेरेंट्स ने कहा- हम स्कूल पर आरोप नहीं लगाएंगे

CM को लिखे लेटर में पेरेंट्स ने कहा है कि अगर हमारे बच्चों को कोविड हो जाता है तो वे BMC या स्कूल पर कोई आरोप नहीं लगाएंगे। देश में स्कूल तब भी खुले थे, जब बुखार, चिकनपॉक्स, खसरा, पीलिया, डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारियां थीं। देश के कई राज्यों में स्कूल खुल चुके हैं, फिर महाराष्ट्र और मुंबई में स्कूल क्यों नहीं खोले जा रहे हैं?

स्कूल खोलने की मांग करने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही

कुछ दिन पहले शुरू #OPENMUMBAISCHOOLSNOW मुहिम से जुड़ने वालों की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है। वे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इस ग्रुप से जुड़ रहे हैं। यह भी जानकारी सामने आई है कि मुंबई के कुछ स्कूल 8वीं से 12वीं तक के छात्रों से एक NOC पर सिग्नेचर करवा रहे हैं। इसमें लिखा गया है कि वे अपनी मर्जी से स्कूल आना चाहते हैं और यहां वे कोविड के सभी प्रोटोकॉल फॉलो करेंगे।

अगले 10 से 15 दिन में सभी स्कूल फिर से खोलने की तैयारी

कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य होने के बाद राज्य में 8वीं से ऊपर की क्लास खोलने की मंजूरी दे दी गई थी। राज्य सरकार ने कहा था कि बच्चे दिवाली की छुट्टी यानी 22 नवंबर के बाद से ही स्कूल जा सकेंगे। हालांकि मंगलवार को डिप्टी CM अजित पवार की अध्यक्षता में हुई बैठक में सभी स्कूल फिर से शुरू करने की संभावना पर चर्चा हुई है।

इस बैठक में शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ सहित संबंधित विभागों के सचिव और अधिकारी मौजूद थे। सूत्रों के मुताबिक बैठक के दौरान इस बात पर सहमति बनी है कि अगले 10 से 15 दिन में सभी स्कूल शुरू हो जाएंगे। स्कूल पर फैसला कोरोना एक्शन फोर्स और मुख्यमंत्री की मंजूरी के बाद ही लिया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *