संत के बहाने सिद्धू का केजरी पर वार:जैन मुनि ने कहा था

चंडीगढ़एक घंटा पहले

पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू ने आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है। सिद्धू ने जैन मुनि परम्पराचार्य प्रज्ञसागर मुनि महाराज के प्रवचन का वीडियो शेयर किया है। इसमें जैन मुनि कह रहे हैं कि केजरीवाल फ्री बांटकर देश का बंटाधार कर रहा है। महिलाओं की तरह पुरुषों को चूड़ियां पहना रहा है।

सिद्धू ने यह वीडियो शेयर कर कहा कि अरविंद केजरीवाल को संत की बात सुननी चाहिए। दुनिया में सुधार की गुंजाइश सबसे बड़ी संभावना है। सिद्धू का यह बयान ऐसे वक्त पर आया है, जब केजरीवाल ने कहा कि सिद्धू उनके साथ आना चाहते थे। इसके लिए बातचीत भी चल रही थी।

जैन संत परम्पराचार्य प्रज्ञसागर मुनि महाराज

जैन संत परम्पराचार्य प्रज्ञसागर मुनि महाराज

प्रवचन में जैन मुनि की बड़ी बातें

  • जैन मुनि कह रहे हैं कि दुनिया को निकम्मा बनाना सीखना है तो केजरीवाल से सीख लो। लोगों को रोजगार दो। काम करने की कला सिखाओ। उनको घर बैठे पैसा पहुंचाना, एक हजार-दो हजार रुपए, लाइट, पंखा फ्री यानी हर चीज फ्री-फ्री क्यों? लोगों को काम करना सिखाओ।
  • सिर्फ कुर्सी पर बैठने के लिए चुनाव में वोट चाहिए तो इसलिए लोगों को लोभ दिखाकर अपनी तरफ आकर्षित करने से देश नहीं चलता। देश में लोगों को पढ़ाओ, लिखाओ और उनकी क्रिएटिविटी को संसार में लाओ।
  • चाहे महिला, पुरुष या युवा हों, उन्हें नपुंसक मत बनाओ। महिलाओं की तरह पुरुषों को भी चूड़ियां मत पहनाओ। नेताओं ने लोगों का घर बर्बाद कर दिया है। मैं कहना चाहता हूं कि केजरीवाल हो या कोई और, लोगों को पुरुषार्थ सिखाओ।
  • अच्छे स्कूल और कॉलेज में पढ़ाओ। महिलाओं को कुटीर उद्योग दो। केजरीवाल देश का बंटाधार कर रहा है। केजरीवाल खुद भी महानिकम्मा है और दुनिया को भी ऐसे ही बना रहा है।

अरविंद केजरीवाल का बड़ा दावा:आम आदमी पार्टी में आना चाहते थे सिद्धू; वे अभी भी कांग्रेस छोड़ने को तैयार बैठे हैं

कांग्रेस की घेराबंदी कर रहे केजरीवाल

पंजाब में कांग्रेस के लिए आम आदमी पार्टी बड़ी चुनौती बनी हुई है। केजरीवाल न केवल घोषणाएं कर रहे हैं, बल्कि सरकार के फैसलों की भी पोल खोल रहे हैं। हाल ही में सरकारी स्कूलों की दशा को लेकर आप ने चन्नी सरकार की खूब बखिया उधेड़ी। इसके बाद सिद्धू भी सरकार के बचाव में कूदे। खासकर, केजरीवाल ने 2022 में सरकार बनने पर 18 साल से बड़ी उम्र की सब महिलाओं को हर महीने एक-एक हजार रुपए देने की घोषणा की। इसके बाद वे विपक्षी दलों के निशाने पर आ गए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *